Tuesday, November 12, 2019
Follow us on
 
BREAKING NEWS
चंडीगढ़ जिला अदालत व पंजाब एवं हरियाणां हाईकोर्ट को आज 29 अक्टूबर को बम से उड़ाने की धमकी मिलने से पुलिस प्रशासन मुस्तैद हो गया हैबिग ब्रेकिंग * पंचकूला- पंचकूला की राजीव कलोनी में चली तलवारे*-पीएम मोदी बोले- आयुष्मान भारत न्यू इंडिया के क्रांतिकारी कदमों में से एकहरियाणा विघानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपने 78 प्रत्याशियों की पहली सूची की जारी- नई दिल्ली में भा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक राष्ट्रीय कार्यालय में चल रही है। प्याज पर सरकार का बड़ा फैसला, निर्यात पर तत्काल प्रभाव से लगाई रोकदिल्ली उतरा पीएम मोदी का विमान, स्वागत को एयरपोर्ट पर उमड़े कार्यकर्ताUN में भारत ने पाकिस्तान को धोया, कहा- अल कायदा-ISIS आतंकी को देता है पेंशन!
 
 
 
National

देश के सभी पत्रकारों के लिए मोदी सरकार का तोहफा

November 01, 2019 10:26 PM
देश के सभी पत्रकारों के लिए केंद्र सरकार का तोहफा*
*'पत्रकार वेलफेयर स्कीम' में हुआ संशोधन*
केंद्र सरकार ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को मजबूती प्रदान करने के लिए 'पत्रकार वेलफेयर स्कीम' में संशोधन कर दिया है। यह देशभर के सभी पत्रकारों के लिए लागू हो गया है। दरअसल केंद्र सरकार ने पत्रकारों के कल्याण के लिए इस स्कीम को फरवरी 2013 में लागू किया गया था। अब इसमें संशोधन किया गया है, जिसका फायदा सभी जर्नलिस्ट्स ले सकेंगे।
यदि किसी जर्नलिस्ट का निधन हो जाता है या फिर वह विकलांग हो जाता है, तो इस स्कीम के तहत केंद्र सरकार उसके आश्रितों को 5 लाख रुपए की सहायता देगी। वहीं, इलाज के लिए भी पत्रकार को सरकार की ओर से 5 लाख रुपए की सहायता राशि दी जाएगी।
इस योजना की पात्रता के लिए एक समिति का गठन भी किया गया है, जिसके संरक्षक केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री होंगे। वहीं, विभाग के सचिव अध्यक्ष, प्रधान महानिदेशक, एएस एंड एएफ, संयुक्त सचिव समिति के सदस्य हैं। वहीं, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के उप सचिव अथवा निदेशक सदस्य संयोजक हैं।
इस समिति का काम होगा कि ये पीड़ित पत्रकार या फिर उनके परिजनों के आवेदन पर विचार करे तथा उसके मुताबिक आर्थिक सहायता देने का फैसला ले। इस योजना के तहत एक अच्छी बात यह है कि इसमें केंद्र या राज्य सरकार से अधिस्वीकृत पत्रकार होने का कोई बंधन नहीं है।
यह योजना पत्रकारों से संबंधित 1955 के एक अधिनियम "Working Journalists and other Newspaper Employes (Condition of service) And Miscellaneous Provision Act 1955" के तहत पत्रकार की श्रेणी में आने वाले देशभर के जर्नलिस्ट्स पर लागू किया गया है।
वेब और टीवी जर्नलिस्ट्स को भी होगा लाभ
वहीं, इस योजना का लाभ टेलीविजन और वेब जर्नलिस्ट्स भी ले सकेंगे। न्यूज पेपर्स के बाद टेलीविजन जगत में क्रांति आई और टीवी न्यूज चैनल्स की शुरुआत हुई, वहीं, अब वेब जर्नलिज्म का जमाना आ गया है और वेब पर भी पत्रकारिता की जा रही है।
इसके साथ ही सभी न्यूज पेपर्स के एडिटर, सब एडिटर, रिपोर्टर, फोटोग्राफर, कैमरामैन, फोटो जर्नलिस्ट, फ्रीलांस जर्नलिस्ट, अंशकालिक संवाददाता और उन पर आश्रित परिजनों को भी स्कीम के दायरे में रखा गया है। इसका लाभ लेने की शर्त यह है कि कम से कम 5 साल तक पत्रकार के रूप में सेवाएं दी गई हों। स्कीम के तहत यह जानकारी भी दी गई है कि एक से पांच लाख की सहायता किन परिस्थितियों में पीड़ित पत्रकार या उनके परिजनों को दी जाएगी।
 
 अधिक जानकारी के लिए - http://pib.nic.in/prs/JWSguidelinesEnglish.pdf?Sel=17&PSel=2 इस लिंक पर जा सकते हैं।
अथवा
महानिदेशक (मीडिया एवं संचार), प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो, 'ए' विंग, शास्त्री भवन, नई दिल्ली -110001 से भी संपर्क किया जा सकता है।
जिन पत्रकारों या उनके परिजनों को सहायता चाहिए, वे विहित फॉर्म पर अपने आवेदन दिए गए पते पर भेज सकते हैं। तीन पृष्ठों के इस फॉर्म का नमूना प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (पत्र सूचना ब्यूरो) की वेबसाइट pib.nic.in से डाउनलोड कर सकते हैं।
-जसवंत सिंह राणा,
महासचिव,
चंडीगढ़ जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली में कल से ऑड-ईवन, सीएनजी गाड़ियां भी इस दायरे में, महिलाओं को मिलेगी छूट
रायपुर रानी में सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती मनाई
हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी स्टार प्रचारकों के नाम सामने आ गए हैं|
पीएम मोदी बोले- आयुष्मान भारत न्यू इंडिया के क्रांतिकारी कदमों में से एक
नई दिल्ली में भा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक राष्ट्रीय कार्यालय में चल रही है।
प्याज पर सरकार का बड़ा फैसला, निर्यात पर तत्काल प्रभाव से लगाई रोक
दिल्ली उतरा पीएम मोदी का विमान, स्वागत को एयरपोर्ट पर उमड़े कार्यकर्ता
UN में भारत ने पाकिस्तान को धोया, कहा- अल कायदा-ISIS आतंकी को देता है पेंशन!
US से लौटने पर पीएम मोदी का होगा भव्य स्वागत, जश्न की तैयारी में जुटी बीजेपी
तरनतारन केस में खुलासाः 26/11 जैसे हमले की थी साजिश, ISI ने ड्रोन से पहुंचाए हथियार